पत्नी (कमल कुमार जी)

घर के बाहर


तुम्हारी नामपट्टी है
भीतरकुर्सी हैंमेज़ हैं
सोफा हैंकारपेट हैं
दीवारें हैंछतें हैं
सब कुछ बहुवचन में -
एकवचन में - मैं
पति अफसर है
कलक्टर सही
पर अफसर है
अफसर तो अफसर होता है
क्योंकि जंगल जंगल होता है।
तुम कारपेट की तरह
बिछी रहो,
परदे की तरह
लटकी रहो
शेंडलियर-सी
उजागर रहो
फ्रेम में जडी अनुक्रृअति
(किसी बडे कलाकार की)
बढाती रहो
ड्राइंग-रूम की शोभा।
तुम कितनी सुशील हो
धर्मपरायण हो
मेरी पत्नी हो
दुधारू गाय हो

हमारे घर की अचेतन वस्तुएँ : कुर्सी,मेज़, सोफा, कारपेट, दीवारें, छतें, परदेऔर अंत में झाडू।

जंगल शब्द से मतलब : शेर जंगल काराजा है, वह अपनी मनमानी करने में हिचकता नहीं। पति भी अपनेघर में मनमानी करता है। पत्नी सब कुछ सहकर चुप रहती है। वहअपने पति के लिए काम ही करती है। पति घर को जंगल जैसासमझता है।

औरत की तुलना कारपेट और परदे से क्यों किया गया है? : हमकारपेट और परदे घर की शोभा बढाने के लिए इस्तेमाल करते हैं।कारपेट ठंडक में हम्हें सुख प्रदान करती है। खिडकियों पर परदेइसलिए टाँकते हैं कि दूसरे हमारे घर के अंदर झाँककर देख सकें।कमल कुमार जी के अनुसार घर में पत्नी भी पति को सुख देने केलिए है। दूसरों के सामने पति कहता है कि यह मेरी पत्नी है, परंतु घर में पत्नी को पति जैसा समान स्थाननहीं मिलता वह पति के लिए काम करनेवाली रह जाती है।

नारी केवल ड्राइंग रूम की शोभा बढानेवाली चीज़ है? कभी भी नहीं नारी का नर जैसा समान स्थान है, चाहेवह घर हो या दुनिया। नारी और नर को मिलकर ही अपने जीवन को आगे बढाना है, उसे उजागर करना है,उसकी शोभा बढाना है।

दुधारू गाय और पत्नी से क्या संबंध है? कमल कुमार जी की राय में पति सोचता है कि उसको सुख देने केलिए ही पत्नी है।
दुनिया में दहेज प्रथा है। पति को जो कुछ चाहिए, वह सब पत्नी को देना पडेगा। गाय हमें दूध देती है। हरदिन गाय से हम यह प्रतीक्षा करते हैं कि वह ज़्यादा से ज़्यादा दूध दें। पर एक दिन ऐसा होगा कि वह दूधदेना बंद कर देती है। तब उसकी हालत क्या होगी? लोग उसे लेकर क्या करेंगे? ज़रूर उसे बिकने की सोच मेंपड जाएँगे।उसी प्रकार आज हमारी माँओं की स्थिती भी ऐसी है। इस बुरे विचार से लोगों को बचाने के लिएहम क्या-क्या करें? सूचना पट तैयार करें, नारियों से हो रही अत्याचार के प्रतिशोध में नारे लगाकरअभियान चलाएँ, नुक्कड नाटक पेश करें

वर्तमान समाज और स्त्री : माँ, माँ होती है। माँ को सिर्फ नारी या स्त्री समझना ठीक नहीं है। आज के समाजमें स्त्री का स्थान क्या है? स्त्री हमारे सामने माँ, बहन, पत्नी, बेटी, नानी-दादी के रूप में प्रकट है। नारी कीओर समाज का दृष्टिकोण क्या है? कमल कुमार जी की कविता में पत्नी का ऐसा चित्र है, जो दुधारू गाय कीतरह हमारे सामने प्रस्तुत है। पर ऐसा ही सोचना उचित नहीं है। हमारे सामने ऐसे अनेक सपूत है, जैसे मदरतेरेसा, इंदिरा गाँधी, , कल्पना चावला, किरण बेदी, शैख हसीना, सुगतकुमारी आदि जिन्होंने कर दिखायाहै कि वे सिर्फ घरेलू काम करने के लिए ही नहीं, पर सारी दुनिया को सही रास्ते पर चलाने के लिए जन्मे हैं।वर्तमान समाज में नारी का नर के समान ही स्थान है

1 comment:

  1. आपका पोस्ट सराहनीय है.....कृप्या यहाँ भी पधारें....
    --The best hindi blog--

    विज्ञापन से पैसे कैसे कमाएँ


    Welcome for all visitors

    ReplyDelete

Feeds